UPPSC PCS MAINS Exam 2021 Preparation उत्तरप्रदेश लोक सेवा आयोग मुख्य परीक्षा की तैयारी कैसे करें… UPPSC PCS TOPPER कैसे बनें…

UPPSC PCS MAINS
UPPSC PCS Mains... -

UPPSC PCS MAINS पर आधारित यह आलेख UPPSC PCS Toppers द्वारा विविध UPPSC interview का सार है… आप यदि UPPSC PCS MAINS में बैठ रहे हैं तो आप समझ लो की ज्ञान होना अलग बात है और ज्ञान की प्रस्तुति करना अलग बात है..

UPPSC PCS MAINS-How to prepare for UPPSC mains

आदर्श उत्तर का मतलब है की सारे तत्व समाहित हो.. जैसे आपसे कोई यह पूछे कि विज्ञान क्या है? आप उत्तर देते हैं की विज्ञान किसी भी विषय का क्रमबद्ध, सुव्यवस्थित और प्रयोग आधारित ज्ञान है… अब दूसरा प्रतियोगी छात्र जिसने बार बार mains answer writing का अभ्यास कर रखा है, वह लिखता है… विज्ञान क्रमबद्ध, सुव्यवस्थित, सार्वभौमिक, अनुसंधान आधारित, पूर्वानुमान , प्रयोग और अनुभव पर आधारित मूल्य निरपेक्ष ज्ञान है… अब हो सकता है एक और प्रतियोगी हो जो uppsc PCS mains answer writing का बार बार अभ्यास कर इससे भी अच्छा उत्तर लिख दे…

मैंने गूगल इमेज पर यह इमेज देखी… आप देखो कितना अच्छा लिखा है उत्तर…

गुप्तकाल के मंदिर पर चार्ट में इतना अच्छा लिखने वाला ही UPPSC PCS में टॉपर बनता है…

How to prepare for UPPSC PCS MAINS ANSWER WRITING

आप अच्छा उत्तर तभी लिख पावोगे जब आप सवाल को सही समझोगे.. Question for UPPSC PCS mains का मर्म पकड़ पावोगे तभी सर्वोतम उत्तर लिख पावोगे… मेरी आपको सलाह है की सबसे पहले आप इन key words का अर्थ समझो…

व्याख्या,वर्णन,विवरण,स्पस्ट करो,स्पष्टीकरण दीजिये या प्रकाश डालिए शब्दों का मर्म एक सा है और ऐसे tailender words होने का मतलब है की पूछे गए सवाल से संबद्ध सारी जानकारियाँ सरल भाषा में प्रस्तुत कर दें.. वर्णन और विवरण पूछने पर तथ्यात्मक उतर ज्यादा होगा और व्याख्या, प्रकाश और स्पष्टीकरण के संदर्भ में उत्तर सरल भाषा में समझाते हुए लिखें.. दूसरे शब्दों में उत्तर में थोड़ी सी गहराई होगी.. सूचना का( डाटा) का अनावश्यक लेखन ना करें…

आलोचना,समीक्षा,समालोचना,परीक्षा,निरीक्षण,गुण -दोष विवेचन का भाव एक सा होता है और ऐसे पिछलगु शब्द होने पर सवाल के उत्तर में किसी भी कथन के पक्ष विपक्ष की गहरी समझ अपेक्षित की जाती है.. आलोचना का अर्थ सिर्फ छिद्र अनवेषण करना नहीं है वरन आलोचना का सही मायने में अर्थ गुण और दोष दोनों पक्षों पर ध्यान देना है जबकि आलोचना पढ़ते ही छात्र सिर्फ नेगेटिव पॉइंट्स की बातें UPPSC PCS mains paper में लिख आते हैं…

आज से एक गुरु मंत्र समझ लो कि समीक्षा, समालोचना ,परीक्षा , निरीक्षण जैसे कीवर्ड सवाल में होने पर सवाल के अच्छे और बुरे पक्षों का अनुपात लगभग बराबर रखते हुए उत्तर लिख दो और आलोचना वाले प्रश्नों में नकारात्मक पक्षों का अनुपात थोड़ा ज्यादा बढ़ा दो.. यूँ समझो…बस इतना ध्यान रखो की हमें किसी आदमी की आलोचना करनी है तो इसका मतलब यह थोड़ा ही है की उसको पानी पी पी कर कोसें.. इसका मतलब है की 70 % उसकी आलोचना करनी है और बाकि उसकी कुछ अच्छी बातें भी बताने है.. इंसान है, कुछ तो अच्छी बातें होगी चाहे कैसा भी हो…

मूल्यांकन या आलोचनात्मक मूल्यांकन पूछे जाने पर आप से उम्मीद की जाती है कि दिए गए सवाल पर आप समसामयिक संदर्भ बतलाते हुए उसकी कमियां भी बताएं और निष्कर्ष रूप में यह स्पष्ट करें कि पूछे गए सवाल का as a whole यानि समग्र अहमियत क्या है..

मीमांसा का अर्थ है किसी भी विषय को क्रमबद्ध और  व्यवस्थित तथा समग्र रूप से प्रस्तुत करना . मीमांसा वाले सवालों का जवाब देना मुश्किल नहीं होता है क्योंकि इसमें उस सवाल से संबंधित सभी संभव पक्षों को मिलाकर लिख देना अपने आप में पर्याप्त होता है.. विवेचना वाले प्रश्नों में भी केंद्रीय भाव मीमांसा वाले सवालों सा ही है और उत्तर वैसे ही देना होता है जैसे मीमांसा वाले सवालों में देना होता है बस मूल फर्क सिर्फ इतना है कि इसमें किसी कथन की चर्चा करते हुए तार्किक व्याख्या की ज्यादा अपेक्षा की जाती है…

आप इन key words को  अच्छे से समझ लें… इनके नहीं समझ पाने पर कहे खेत की और सुने खलिहान वाली दशा हो जाती है… आप जब तक सवाल का भाव ही नहीं समझ पावोगे तो फिर लिखोगे क्या?

  • UPPSC PCS mains answer writing बढ़ाने के लिए जरूरी है कि आप स्तरीय पुस्तकें और पत्रिकाएं ही पढ़ें..आप यदि कचरा पढ़ रहे हैं तो सर्वोतम उत्तर कैसे लिख पावोगे..
  • आप जब भी खाली हो,तब दिमाग में यही सोचो कि इस विषय पर सवालों के जवाब में उत्तर को current रेफरेंस से कैसे जोड़ना है..जबरदस्ती नहीं जोड़ना है..अगर कोई सही में नया संदर्भ है तो सामयिक संदर्भ जरूर दें…जैसे गांधीवाद के महत्त्व की बात हो तो आप पूरी दुनिया द्वारा गाँधी दिवस का महत्त्व और स्वीकृति से जोड़ सकते हैं..
  • UPPSC mains paper को बार बार पढ़ें और ट्रेंड को समझो और देखो की upsc क्या चाहती है.. हर साल सवाल बदल जाते हैं मगर आपने ख़ुद में अभ्यास से यह विश्वास कि now many eassy to write in uppsc main तो मान लो कि सफलता आपके करीब है…
  • UPPSC mains exam answer देते समय आपको ध्यान रखना है कि आपके उत्तर update, sequence और authentic हो… आपके उत्तर में क्रमबद्धता होनी बहुत ही जरूरी है क्योंकि आपसे पूछा जा रहा है कि मुगल साम्राज्य के पतन के कारण क्या है ? आप उसमें जो कारण पांचवें नंबर पर होना चाहिए वह पहले नंबर पर दिख रहे हो और जो पहले नंबर पर होना चाहिए वह पांचवें नंबर लिख रहे हो तो आपका उत्तर क्रमबद्धता की विशेषता युक्त नहीं है..
  • कुछ प्रतियोगी छात्र परीक्षा में ऐसी बातें लिख देते हैं जिसमें प्रामाणिकता का अभाव है.. हमारे पास में बहुत बार ऐसी सूचनाएं आ जाती है जिसका आधार अनौपचारिक संचार होता है या यूं कहें उसकी प्रमाणिकता निर्विवाद रूप से स्वीकार्य नहीं होती है . . अपने जवाब में ऐसी कोई सूचना नहीं होनी चाहिए जो प्रमाणिक नहीं हो…
  • UPPSC PCS main answer writing को एक माला और मनको या माला और फूलों से समझो..माला में सारे मनके कितनी कुशलता से पिरोये जाते हैं वैसे ही आपको ias main exam में उत्तर रूपी माला को पिरोना है..
  • UPPSC PCS main answer writing करते समय इस बात का विशेष ध्यान रखें कि आपका answer words लिमिट में ही हो… परीक्षा में examinner कोई एक एक शब्द नहीं जोड़ेगा.. थोड़ा बहुत अंतर चल सकता है.. आप abbreviation सीख लो.. गागर में सागर ज्यों..
  • आपका main में अच्छे अंक का दारोमदार answer writing practice पर ही है.. जितना हो सके, अभ्यास करें.. आपकी practice इस रूप में होनी चाहिए की आपके दिमाग में हर सवाल का जवाब pre determimed हो कुछ कुछ ताकि UPPSC mains exam में आप time management सम्यक् रुपेण कर सके….

उत्तर देते समय भारतीय संविधान में विश्वास, भारत सरकार की नीतियों में विश्वास और न्यायपालिका में आस्था और positive thoughts रखें…

UPPSC mains answer writing करते समय आप ध्यान रखें कि भाषा सरल और सम्यक् हो.. जहाँ हिंदी भाषा में जटिल शब्द हो, वहाँ english वर्ड्स का का प्रयोग कर सकते हैं..

http://uppsc.up.nic.in/

NCERT क्यों जरूरी है?

UPPSC PCS mains की तैयारी या अन्य किसी सेवा की बात हो सबसे ज्यादा प्रमाणिक भारत में एनसीईआरटी की पुस्तकों को माना जाता है…. एनसीईआरटी की किताबें बहुत ही विश्वसनीय है और उसमें दी गई जानकारी प्रमाणित और अपडेट होती है… लोक सेवा आयोग की समस्त परीक्षाओं का पैटर्न इस तरीके का है कि लोक सेवा आयोग भली भांति जानता है कि क्या पूछना है और क्या छोड़ना है… एनसीईआरटी की पुस्तकें गागर में सागर है… एनसीईआरटी की पुस्तकों में किसी भी तरीके का पूर्वाग्रह , भावनात्मक लगाव या झुकाव नहीं है…एनसीईआरटी की किताबों में समस्त सामग्री पूर्वाग्रह से रहित तार्किक ,वैज्ञानिक और विशेषज्ञों द्वारा तैयार की गई है…


 UPPSC PCS mains के लिए 📝 क्यों जरूरी है?

  Notes बहुत ही जरूरी है…साथ ही आप जिस आधार सामग्री का चयन कर रहे हैं, वह बहुत ही प्रामाणिक विश्वसनीय हो…. इस संबंध में विषय विशेषज्ञ यह कहते हैं कि जो टॉपर्स ने विभिन्न इंटरव्यू में जो पुस्तकें या जो गाइड बतलाई है..आप उनको एक बार अपनी बुक्स लिस्ट में शामिल कर लीजिए फिर उसमें आवश्यकतानुसार कमी और वृद्धि आप कर सकते हैं….

UPPSC PCS MAINS में पूछे जाने वाले सवाल और आपके उत्तर

प्रथम प्रश्नपत्र में उत्तर प्रदेश पर केंद्रित सवाल अधिक होते हैं.. UPPSC PCS mains पेपर की प्रकृति देखने से स्पष्ट है कि अभ्यर्थियों के व्यावहारिक व समसामयिक ज्ञान का परीक्षण किया जाता है..

प्रथम प्रश्नपत्र में कुल 200 अंकों के पेपर में तकरीबन एक चौथाई या 48 नंबर के प्रश्न यूपी पर केंद्रित पूछे जा रहे हैं और यह ग्राफ बढ़ता जा रहा है.. यूपी पर आधारित 24 अंकों के प्रश्न अधिक थे…..‘बुंदेलखंड पर्यटन सर्किट के प्रमुख पर्यटन स्थलों की अवस्थिति का वर्णन कीजिए’ और ‘स्मार्ट सिटी मिशन क्या है? पूर्वी उत्तर प्रदेश में इस योजना के लिए चुने गए नगरों की प्रमुख विशेषताओं की विवेचना कीजिए’ जैसे प्रश्न बुंदेलखंड और पूर्वांचल पर आधारित रहे… इन सवालों में आपसे आपके प्रांत की जानकारी और उसका प्रभावी presention अपेक्षित रहता है..

कोरोना से जुड़ा प्रश्न ‘विपरीत प्रवास क्या है? कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था और सामाजिक व्यवस्था पर इसका क्या प्रभाव पड़ा’ ? ‘भारतीय शिक्षा के क्षेत्र में पाश्चात्य प्रभावों का आलोचनात्मक परीक्षण कीजिए’… यह सवाल आपकी current affairs पर पकड़ पता करते हैं…

UPPSC PCS Mains के अनिवार्य और optional paper का मैने ट्रेंड अनालिसिस किया तो पाया की पूछे गए सवाल सरल है मगर UPPSC PCS mains में answer writing कला आनी चाहिए… आपके answer में शोर्टनेस और current अप्रोच और to the point उत्तर होना चाहिए…

सीमा पर चीन से तनाव को देखते हुए सामान्य अध्ययन के दूसरे प्रश्नपत्र2020 में चीन पर केंद्रित 2.सवाल पूछे गए थे..‘प्रधानमंत्री मोदी एवं चीनी राष्ट्रपति के बीच सौहार्दपूर्ण मामल्लपुरम शिखर बैठक के बावजूद कई वर्षों के अंतराल के बाद फिर वास्तविक नियंत्रण रेखा पर विवाद गहरा गया है। आपके अनुसार इसके पीछे क्या कारण है?’ ‘चतुर्भुज सुरक्षा संवाद (क्वाड) के बारे में आप क्या जानते हैं क्या मालाबार सैन्य अभ्यास विश्व राजनीति में चीन के बढ़ते प्रभाव को रोकने में सफल होगा?’

इंटरनेशनल मुद्दे और विदेश नीति पर भी current affairs पर फोकस रहता है..

अटल भुजल योजना के उद्देश्यों और प्रभाव का वर्णन करें।
संक्षेप में भारत में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की भूमिका बताइए।
भारत-नेपाल द्विपक्षीय संबंधों में मुख्य अड़चन क्या हैं?
नागरिक चार्टर पर एक नोट लिखें।
जनप्रतिनिधित्व अधिनियम के मुख्य तत्वों की गंभीर रूप से जाँच करें।
नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) 2019 के मुख्य प्रावधानों का वर्णन करें।
डिजिटल इंडिया से क्या अभिप्राय है? इसके विभिन्न स्तंभों और चुनौतियों पर चर्चा करें।
सुगम्य भारत अभियान की भूमिका और महत्व पर एक नोट लिखें।
बुनियादी संरचना के सिद्धांत से आप क्या समझते हैं? भारतीय संविधान के लिए इसके महत्व का विश्लेषण करें।

UPPSC PCS mains में उत्तर कैसे लिखें?

आपने नोट किया होगा कि सारे पूछे गए सवाल बेसिक है और हर छात्र यही सोचता है की आसानी से लिख सकते हैं मगर सार रूप में TO the point लिखना बहुत ही मुश्किल काम है जो अभ्यास से होता है…

भारतीय संविधान का बुनियादी ढाँचा पढ़ने में आसान है पर लिखना थोड़ा जटिल है…

  • बुनियादी ढाँचा क्या है संविधान का ,यानी परिभाषा
  • बुनियादी ढाँचा में कौन से तत्व है.
  • सर्व सम्मति क्यों नहीं है इस पर
  • क्या बुनियादी ढांचे में संशोधन हो सकता है?
  • केशवानंद भारती और अन्य वाद
  • न्यायपालिका और बुनियाद ढाँचा
  • महत्व बुनियादी ढाँचे का
  • सार रूप में यह हमारे संविधान की आत्मा है..
  • आपको उत्तर में 50% में इसका महत्व बताना है..बाकि में other fact बताने हैं..

CAG पर टिप्पणी करो…

…. Uk से प्रेरित,संविधान के 148 से 150 तक में वर्णित.. नियुक्ति, tenure, सार्वजनिक धन का प्रहरी, PAC का मित्र, कार्य यह देखना कि कार्यपालिका द्वारा किया खर्च विधायिका द्वारा दी गयी अनुमति अनुसार, उसी मद  में, proper ऑफिसर द्वारा मितव्ययिता और नियमानुसार वैधता के साथ हो रहा है.. First कैग नरहरि राव और वर्तमान में…..आलोचना वॉचडाग और postmartam. अब तक CAG के कार्यों के  अति चर्चा उदाहरण जैसे 2 G और अन्य… first administrative कमिशन रिपोर्ट की सिफारिश पर एकाउंटिंग से अब अलग कर दिया गया है और अब audditing का काम है…. उत्तर के अंत में आपको ऐसे लिखना चाहिए:

अस्तु हम सार रूप में कह सकते हैं की CAG एक सार्वजनिक धन के प्रहरी के रूप में बहुत ही प्रभावी काम कर रहा है पर अभी भी कुछ सुधार इसकी भूमिका और नवाचारों को लेकर संसद इसे और प्रभावी बना सकती है.. Welcome to UPSC | UPSC

UPPSC PCS mains के अनिवार्य पेपर हो या optional paper आपको बस drafting का पैटर्न एक सा ही रखना है..

पेपर में पूछे गए सवाल को ध्यान से पढ़ो.. आपके उत्तर में सार तत्व, to the point, व्यापक सोच, क्रमिकता और तार्किकता और सामयिकता होनी चाहिए…

कंमेंट कर बताएँ की आलेख कैसा लगा और आप और क्या पढ़ना चाहते हैं…

VISION IAS; IAS PREPARATION APPROACH FOR (shreeumsa.com)

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on telegram

RECENT POSTS

UPPSC PCS MAINS Exam 2021 Preparation उत्तरप्रदेश लोक सेवा आयोग मुख्य परीक्षा की तैयारी कैसे करें… UPPSC PCS TOPPER कैसे बनें…

UPPSC PCS MAINS
UPPSC PCS Mains...
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on telegram

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RECENT POSTS