आजादी बहुत ही मुश्किलों से मिली है.

independence day india
-

indian independence day ..भारत के प्रथम प्रधानमंत्रीजी नागौर के बगदरी गाँव में 2 octomber 1959 को पंचायती राज की नींव रख रख रहे थे.. नेहरूजी बता रहे थे कि पंचायती राज से कैसे लोकतंत्र पुष्पित और पल्लवित होगा.. इतने में एक ग्रामीण खड़ा हो गया और उसने कहा कि नेहरूजी आप तो कहते थे कि आजादी के बाद लोकतंत्र आयेगा और हर आदमी को आजादी मिलेगी.. मुझे तो कहीं भी लोकतंत्र नज़र नहीं आ रहा? नेहरूजी ने कहा कि पहले आपके गाँव में कोई पुलिस का कोई सिपाही आता तो क्या होता? ग्रामीण ने कहा कि हम लोग डर जाते और घरों में छुप जाते थे.. नेहरूजी ने कहा कि बस यही मेरा जवाब है.. आप पहले सिपाही से ही डर जाते थे और अब आप भारत के प्रधानमंत्री से सीधा सवाल कर रहें हैं.. वो भी बिना डरे… यही तो लोकतंत्र है.. लोक का तंत्र जिसमें कोई डर नहीं है….

15 august 2020 Independance day of india

हर बार के national independence day की तरह इस बार का हमारा यह राष्ट्रीय पर्व विशेष मायने रखता है..हमने 15august 1947 को ब्रिटिशराज से आजादी पाई.. यह आजादी बड़ी मुश्किलों से मिली है.. इस आजादी के लिए कितनी कुर्बानियां दी गयी है.. हम अंदाज ही नहीं लगा सकते हैं की यह आजादी किस कीमत पर मिली है.. भगतसिंह , चंद्रशेखर आजाद, सुभाषचंद्र बोस, उधमसिंह, लाला लाजपतराय, महात्मा गाँधी और अनेको आजादी के पहरेदारों ने इसकी जड़ों को मज़बूत कर हमें यह आजादी दिलाई है… हमारा राष्ट्रीय स्वतंत्रता दिवस हमें हमारे कर्तव्य का बोध दिलाता है.. इस बार कोरोना के कारण पूरी दुनिया में परेशानी का आलम है.. हमारे भारत वर्ष में भी कोरोना के कारण हम विविध संकटो से गुजर रहे हैं.. Shreeumsa. Com की कहानियाँ यही कहती है की मनोबल और आत्मविश्वास से बड़ा कुछ नहीं होता.. यह सब भी बीत जायेगा.. हमें सरकारी guideline का पालन कर कोरोना को जल्दी भगाना है.. अभी सबसे बड़ी राष्ट्र निर्माण की नई निष्ठा यही है कि ख़ुद भी बचो और औरों को भी लापरवाह होने से बचने की सीख दो..

हमने आजादी के इतने सालों में क्या पाया है?

आजादी के बाद हमें अंग्रेजों ने जो भारत हमें सौंपा था वह सोने की चिड़िया नहीं रहा.. ब्रिटिश राज ने अपनी दमन और शोषण की नीतियों और आर्थिक नीतियों के कारण देश की अर्थव्यवस्था को खोखला कर दिया था… आजादी के समय हमारा राष्ट्र विविध आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक चुनोतियों से जुझ रहा था.. हमारे संविधान निर्माताओं ने ऐसा संविधान बनाया जो अंतिम व्यक्ति की बात सुन सके… दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है हमारा.. कृषि, उद्योग और sevice industry में हमारे देश ने कई नवाचार किये और आम आदमी के जीवन में बदलाव आया.. मगर कुछ सवाल है जिनका जवाब indian independence day पर जनता जानना चाहती है…..

Independence day in India 2020 में किसान,मज़दूर और आम आदमी दुःखी क्यों है?

Indian independence day और विशेषत: 74th celebration of independence day के बावजूद जिस आम आदमी को लाभ मिलना था..वो मिला क्या सच में?

जातिवाद,भाषावाद, नक्सलवाद, आतंकवाद और सम्प्रदायिकता जड़ से क्यों नहीं समाप्त हुई? हमारे कितने ही indian independence day चले गए पर दशा क्यों नहीं बदली?

आजादी के इतने सालों बाद भी भ्रष्टाचार समाप्त क्यों नहीं हो रहा?

राजनीति में से नीति क्यों गायब हो रही है.. अपराधी क्यों आ रहे हैं? राजनीति को कुछ लोग बिना पूँजी का सबसे अच्छा निवेश देने वाला उद्योग क्यों मान रहे हैं?

अभी भी गरीबी,बेरोजगारी और भुखमरी खत्म क्यों नहीं हुई?

दोस्तों! Shreeumsa. Com जीवन के हर पक्ष में आशावाद देखती है.. हमारा मानना है की हमने indian independence day की सही में कीमत समझी है और हमने बहुत पाया है.. हमारा सबसे बड़ा लोकतंत्र, चुनाव द्वारा क्रांति, विविध छोटी मोटी कमियों के बावजूद सबसे अधिक सराहा जाने वाला नवोदित लोकतंत्र है.. USA Uk और अन्य देशों कि तरह हमारा लोकतंत्र ज्यादा पुराना नहीं है.. बहुत सी कमियाँ भी है.. पर कमियाँ कहाँ नहीं है.. सुधार हो रहे हैं.. शिक्षा और सोशलमीडिया के कारण जनता में बहुत जागरूकता आई है.. बहुत सारी कमियाँ भी है.. पर जनता अब बहुत ज्यादा जागरूक हो रही है.. सवाल जवाब को अब टाला नहीं जा सकता.. अधिकारी और नेता जनता में से ही आते हैं.. यदि कहीं कोई कमी है तो सोच में भी बदलाव लाना होगा..वास्तविक independence day india 2020 तभी आयेगा जब हम सब ख़ुद सुधरेंगे.. निज शासन फिर अनुशासन.. घर परिवार से ही नागरिक बनते हैं.. हम सब विविध प्रॉब्लम का रोना रोते है पर ख़ुद सुधरना नहीं चाहते.. वोट का प्रयोग गलत सोच के साथ करते है तो फिर MLA MP को क्यों दोष दें.. भगतसिंह पैदा हो हर आदमी चाहता है मगर पड़ोसी के घर में.. नीति, संस्कार और मूल्यों की बात ख़ुद पर और दूसरों पर.. तब देश 100 💯. अंक कैसे अर्जित करें.. हमने देश को 74th celebration of independence Day पर क्या दिया है.. सिर्फ अधिकार नहीं कुछ कर्तव्य भी है.. Negative सोच से बाहर निकलो.. देश में बहुत कुछ बदला है.. गाँव शहर सब की दशा और दिशा बदली है.. अपने देश की आलोचना करनी बंद करनी होगी और राष्ट्र पर गर्व करें और हम. ख़ुद कुछ ऐसा करें जिसमें राष्ट्र निर्माण में हम भी कुछ योगदान दे सकें..

Independence day in india 2020 के पावन अवसर पर हम सबको संकल्प लेना होगा कि कुछ आलोचना के शब्दों की बजाय आज से कुछ योगदान दूँगा.. चाहे योगदानों किसी भी रूप में हो.. भारत आज दुनिया में वापिस विश्वगुरु बनने जा रहा है… बहुत बदला है और बहुत बदलाव लाने हैं.. एक व्यक्ति या एक संस्था मात्र से यह संभव नहीं है.. सबको मिलकर ही कुछ करना होगा….

भरोसे का नाम बस भगवान

quotes about life

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on telegram

RECENT POSTS

आजादी बहुत ही मुश्किलों से मिली है.

independence day india
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on telegram

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RECENT POSTS