यह सब बीत जायेगा……..

बस धीरज का दामन थामे रखना..... -

आज आप किसी collector , SP, मंत्री, धन्ना सेठ की सेवा या खुशामद यह सोचकर कर रहे हो कि आने वाले समय में यह लोग काम आयेंगे तो आप भूल कर रहे है.. बुजुर्ग कहते हैं राजा ,योगी ,अग्नि और जल से जितना संभव हो दूर रहो.. इनकी प्रीत बालू की भीत है… खैर! एक समय एक राजा था.. राजा ने घोषणा करवाई कि जीवन को समझाने वाले बड़े बड़े ग्रंथ वेद पुराण तो बहुत पढ़े सुने… आज तो एक वाक्य में जीवन का मर्म बता दे.. उसको मुँह माँगा ईनाम दूँगा… कुछ दिनों बाद एक ऋषि राजभवन में आते हैं और महाराज को एक अँगूठी देते हैं और कहते हैं –हे राजन! यह अँगूठी मेरे गुरु ने मुझे दी थी और कहा कि जब यूँ लगे कि अब तो कोई रास्ता नहीं बचा.. सारे विकल्प और साधन प्रयोग कर लिए… हर और से हिम्मत हारने पर इसमें रखे पर्चे का प्रयोग करना.. मुझे जीवन में कभी इसकी जरूरत पड़ी नहीं राजन… अब आप लें इस अँगूठी को… कभी लगे तो इसको काम में ले लेना…. बहुत दिन बीते.. इन दिनों में बहुत बार प्रॉब्लम भी आई.. हर बार राजा को लगता कि यह प्रॉब्लम तो स्वयं ही solve हो जायेगी…. एक बार राजा पर पड़ोसी राजा attack कर देता है… राजा को पराजय का मुँह देखना पड़ता है..सैनिक राजा को ढूंढते ढूंढते उसका पीछा करते वहाँ पहुँच जाते हैं.. अकेले बैठे राजा को लगता है कि अँगूठी में रखे फॉर्मुले को अब देखना ही पड़ेगा… राजा अँगूठी खोलता है और पर्ची निकालता है… पर्ची पर लिखा होता होता है कि हर बार ज्यों यह समय भी बीत जाएगा… राजा को वाक्य का मूल भाव समझ आ जाता है और चेहरे पर मुस्कान आ जाती है.. इतने में सैनिक पास से गुजर जाते हैं.. पेड़ की औट में होने के कारण राजा उनको दिखाई नहीं देता है… राजा हिम्मत रख वापस तैयारी करता है…धीरे धीरे अपनी सेना बनाता है और एक दिन वो भी आता है जब पड़ोसी राजा को युद्ध में हरा देता है… कोई दरबारी कहता है कि राजन! सुना है कि आपके पास कोई वाक्य है जिसके कारण हारा आदमी जीत जाता है.. राजा कहता है कि हाँ है… वो वाक्य है — हर बार ज्यों यह समय भी बीत जायेगा…. दोस्तों! जीवन में लड़ाई हमेशा खुद के भरोसे लड़ी जाती है.. सब कुछ बदल जाता है यहाँ.. बस धीरज का दामन थाम कर रखें… जवानी ,बुढ़ापा, धन दौलत, सत्ता, अहंकार, रूप, सुख दुःख, वैभव सब कुछ बदल जाता है….. यह शोहरतें, दौलतें हसरतें कुछ भी तो सदा रहता नहीं…कल जहाँ मैं था आज कोई और है.. यह भी एक दौर है और वो भी एक दौर था…. राजेश खन्ना….

भिखारी,राजा और जिंदगी

एक डॉक्टर जिसने आज तक लाखों पोस्टमार्टम कर दिये…

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on telegram

RECENT POSTS

यह सब बीत जायेगा……..

बस धीरज का दामन थामे रखना.....
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on telegram

RECENT POSTS