ज्ञान, पैसा, शोहरत सब विनम्रता से ही आता है

सब कुछ मिलता है मगर.... -

राजा जनक के पास शुकदेव मुनि जाते हैं और ज्ञान प्राप्त करने की इच्छा जाहिर करते हैं.. राजा जनक कहते हैं कि मुनि महाराज आप कल आना.. दूसरे दिन मुनिजी जाते हैं और द्वारपाल से कहते हैं कि जावो राजा जनक से कहो कि शुकदेव मुनिजी महाराज पधारे हैं… द्वारपाल थोड़ी देर में आता है और कहता है कि महाराज ने कहा है आप कल पधारे… शुकदेव मुनि दूसरे दिन आते हैं थोड़े विनम्र होकर संदेश भिजवाते हैं कि कहो शुकदेवजी पधारे हैं.. राजा जनक संदेश भिजवाते हैं कि आप कल आना… अब शुकदेव मुनि आते हैं और राजा जनक को संदेश भिजवाते हैं कि शुकदेव आया है… राजा जनक मुनि महाराज को शीघ्र बुलाते हैं… राजा जनक कहते हैं ज्ञान तभी आता है जब मैं और अहंकार नहीं होता है… अब आप ज्ञान प्राप्ति के अधिकारी बने हैं… ज्ञान विश्वास से प्राप्त होता है.. दोस्तों! जीवन में मैं मैं किसी को पसंद नहीं है… यही कारण है कि आपने देखा होगा retired सरकारी कर्मचारी कि बड़ी दुर्गति होती है.. पूरे दिन when I was collector nagaur, when I was sp bikaner, when I was Dc salestax यही बातें औरों को तो क्या घरवालों को ही परेशान कर देती है… अब कुछ नहीं है.. आराम का और मस्ती का समय है पर अहंकार गया नहीं… खैर एक बार भगवान बुद्ध से उनके शिष्य आनंद ने कहा कि भगवन! आप जब उपदेश देते हो तो उपर आसन पर बैठकर क्यों देते हो? आप हमारे बराबर बैठकर भी तो उपदेश दे सकते हो.. तथागत बोले कि आंनद आपने कभी देखा कि आप झरने का पानी पी रहे हो.. झरना नीचे आये आपको पानी पिलाने… झरना ऊपर से नीचे कि और ही बहेगा… जिसको प्यास बुझानी है वही झरने के नीचे आयेगा…. जिसको भी कुछ चाहिए उसको विनम्र होना ही होगा… सरकारी नौकरी हो या pvt. जॉब प्रारंभ में सबको समन्वय में बड़ी प्रॉब्लम आती है… कोई भी ज्ञान अहम और वहम के साथ नहीं आ सकता…. कहा गया है कि श्रद्धा वान लभते ज्ञानम् अर्थात् जो ज्ञान है वो श्रद्धा और विश्वास से ही आता है… …

खाली डिब्बा खाली बोतल

मेहनत कभी भी बेकार नहीं जाती

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on telegram

RECENT POSTS

ज्ञान, पैसा, शोहरत सब विनम्रता से ही आता है

सब कुछ मिलता है मगर....
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on telegram

4 thoughts on “ज्ञान, पैसा, शोहरत सब विनम्रता से ही आता है”

  1. महिपाल सिंह चारण प्रधानाचार्य स्वामी विवेकानंद राजकीय मॉडल स्कूल शेरगढ़

    Very motivational and inspiring.As I know you believe in the theory of sincerely.So keep rising.

  2. Pingback: वीणा के तार और आपकी जिंदगी - ShreeUMSA.com

  3. Pingback: moral story and hindi kahani about way of life and success

  4. Pingback: कवि गंग.... चंचल नारी का नैन छिपे नहीं......ठननम ठननम ठह क्यों ठेहका.....

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RECENT POSTS